Ashwini Mudra Method and Benefits In Hindi

0 461

अश्विनी मुद्रा

आकुंचयेद् गुदाद्वारे प्रकाशयेत् पुनः पुनः।
सा भवेदश्विनी मुद्रा शक्ति प्रबोधकारिणी।।
आश्विनी परमा मुद्रा गुह्यरोग विनाशनीं।
बलपुष्टिकरी चैव अकालमरणं हरेत् ॥ (घे.सं. 3/82-83)

विधि

Loading...

सुखासन में तनाव रहित बैठिए। नेत्रों को बंद करें व पूरक करें। कुंभक करते हुए गुदा द्वार का बार-बार आकुंचन (संकोचन) करें। यथाशक्ति क्रिया करें। तत्पश्चात् रेचक करें। सुविधानुसार क्रिया करें।
विशेष: श्वास क्रिया सामान्य रखते हुए भी कर सकते हैं।

लाभ

  • अकाल मृत्यु का भय ख़त्म होता है।
  • गुदा प्रदेश के रोग स्वतः समाप्त हो जाते हैं।
  • कुण्डलिनी जागरण में सहायता मिलती है।
  • शारीरिक और मानसिक लाभ मिलते हैं।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.