Browsing Category

बुखार का इलाज

ग्रंथि शोथ ज्वर का होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Medicine For Glandular Fever ]

यह ज्वर भी एक प्रकार का संक्रामक रोग है। यह ज्वर बच्चों को ही अधिक चढ़ता है। ज्वर की तेजी के साथ गला भी कुछ लाल हो जाता है। गले तथा नाक की गांठे फूल जाती हैं, जिनमें तेज दर्द होता है। प्लीहा और यकृत बढ़ जाते हैं, भूख नहीं लगती-ये इस…

पीत-ज्वर (पीला बुखार) का होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Medicine For Yellow Fever ]

यह ज्वर निश्चय ही एक संक्रामक रोग है, गरम देशों में रहने वाले लोगों को ही यह अधिकतर अपना शिकार बनाता है। स्टैगोमिया नामक जीवाणु अपने विष द्वारा इस रोग की उत्पत्ति करता है। संभवतः इस रोग से मरने वालों की संख्या बहुत अधिक है। यदि इस रोग में…

जाड़ा लगकर तेज बुखार का होम्योपैथिक दवा

इस रोग में अकस्मात शरीर में जाड़ा लगकर बहुत तेज ज्वर चढ़ता है। पहले सप्ताह भर ज्वर रहता है और फिर सप्ताह भर के लिए लोप हो जाता है और फिर पुन: ज्वर हो जाता है। ज्वर उतर जाने पर बहुत पसीना आता है और फिर ज्वर चढ़ आता है, इसलिए इसे बार-बार आने…

ब्रूसीलोसिस ( माल्टा ज्वर ) होम्योपैथिक इलाज [ Brucellosis Homeopathic Treatment ]

भूमध्य सागर के किनारे के देशों में, विशेषकर माल्टा द्वीप में ही यह रोग अधिकतर होता दिखाई देता है, संभवत: इसी कारण इसका नाम ‘माल्टा-ज्वर' पड़ा है। यह एक प्रकार के जीवाणु द्वारा उत्पन्न होता है, जिसे 'Micrococcus Melitensis' कहते हैं।…

सर्दी का बुखार होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Medicine For Catarrhal Fever ]

आंख और नाक से पानी की तरह लिसलिसा-सा तरल निकलना, शरीर में ऐंठन का दर्द या सारे शरीर में दर्द, आंखें पानी से भरी हुई, छींक, सिर भारी, तेज ज्वर, जम्हाई आना, आंख और मुंह भारी होना, आंखें लाल रहना, आवाज बैठ जाना, छाती में दर्द आदि सर्दी के…

यक्ष्मा (क्षयरोग) के ज्वर का होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Medicine For Phthisis Fever ]

यक्ष्मा (क्षयरोग) का ज्वर रात-दिन चौबीसों घंटों बना रहता है। सवेरे के समय ज्वर कुछ घटता है, पर तीसरे पहर फिर चढ़ जाता है। ज्वर चढ़ने से पहले रोगी के शरीर में पहले कुछ सिरहन-सी होती है, लेकिन कंपकंपी नहीं होती, तेज ज्वर के समय पसीना बहुत आता…

लाल बुखार का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Scarlet Fever ]

यह भी एक संक्रामक रोग है। यह शिशुओं और बालक-बालिकाओं को ही अधिक होता है और जीवन में केवल एक ही बार होता है। इसमें तेज ज्वर, तीव्र नाड़ी, शरीर पर बहुत से लाल रंग के (आरक्त) उदभेद निकलते हैं। इसके साथ ही गले में जख्म, बहुत कमजोरी और…

सूतिका ज्वर का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Puerperal Fever ]

यह प्रसूताओं का एक भयंकर रोग है। प्रसव के समय प्रसव-द्वार में चोट लगकर कोई जगह छिल जाने अथवा प्रसव के बाद फूल का कुछ अंश न निकलकर भीतर ही रह जाने और गर्भाशय के भीतर ही सड़कर रक्त विषैला होकर अथवा रक्त बंद होकर यह रोग होता है। प्रसव के…

चेचक के टीके के उपसर्ग [ Side Effects Of Vaccinations In Hindi ]

ऐलोपैथिक चिकित्सा के मत से टीका (Vaccination) लेना - साधारणतः बांह छेदकर चेचक का बीज (लिक्विड फॉर्म में) शरीर में डाल दिया जाता है, किंतु आजकल होम्योपैथिक चिकित्सक वैक्सिनिनम, वैरियोलिनम या मैलेंड्रोनम खिलाकर टीका देने की प्रक्रिया करते…

होम्योपैथिक मेडिसिन फॉर चिकन पॉक्स [ Homeopathic Medicine For Chicken Pox ]

यह बड़ा ही संक्रामक रोग है। इसका बीज (विष या कीटाणु) शरीर में प्रवेश कर जाने के परिणामस्वरूप चेचक निकलती है। हवा और मक्खियों द्वारा यह रोग एक स्थान से दूसरे स्थान को जा पहुंचता है। श्वास लेते समय जिस व्यक्ति (या बच्चे) की नाक के भीतर यह विष…

खसरा का होम्योपैथिक उपचार [ Homeopathic Medicine For Measles Fever ]

इस रोग का विस्तृत विवरण लिखने की अधिक आवश्यकता नहीं है, क्योंकि गृहस्थ-जन इसके लक्षण जानते हैं और माता शीतला देवी की पूजा करते हैं। यों बचपन के अनेक रोगों में यह एक प्रमुख रोग है। यह छूत का रोग माना जाता है। रोगी के कपड़ों से, हवा से यह फैल…

होम्योपैथी में डेंगू की दवा [ Dengue Ka Homeopathic Medicine ]

डेंगू ज्वर को 'हड्डी-तोड़ बुखार' भी कहते हैं। इसका भरपूर आक्रमण प्राय: 3 दिनों तक रहता है और इतने थोड़े समय में ही रोगी की देह, हाथ, पैर और समूचे शरीर में तथा माथे में दर्द इतना अधिक होता है कि उसी से रोगी एकदम कातर हो जाता है। रोग का एकाएक…

मलेरिया बुखार का होम्योपैथिक इलाज [ Malaria Ki Homeopathic Medicine ]

Plasmodium Malariae नामक एक तरह का जीवाणु ही इस रोग की उत्पत्ति का कारण है, यह रक्त में मिलकर रक्त-कण को दूषित बना देता है, इसलिए मनुष्य रक्तहीन हो जाता है और उसके शरीर का रंग पीला पड़ जाता है। मलेरिया-विष वायु और जल में मिलकर और कितने ही…

मोह ज्वर का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Typhus Fever ]

यह ज्वर एकाएक आ जाता है, कितनी ही बार तो कंपकंपी होकर आता है और ज्वर का ताप क्रमशः बढ़ता-बढ़ता तीन दिनों में ही खूब ऊंचा चढ़ जाता है। इसमें पहले तेज सिरदर्द होता है, जी मिचलाता है, ऊँचा ताप, कभी ज्वर के साथ कंपकंपी, सारे शरीर में दर्द,…

टाइफाइड का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathy Medicine For Typhoid Fever ]

इसको एंटेरिक फीवर (आंत्रिक-ज्वर या मियादी बुखार) भी कहते हैं। यदि किसी अविराम ज्वर में कपाल में भयानक दर्द, बेहोशी-सी, पेट फूलना, तलपेट दबाने पर गड़गड़ाना, कब्ज या अतिसार, जल्दी-जल्दी कमजोर होते जाना, धीरे-धीरे ज्वर का बढ़ना और विलंब से…