Browsing Category

Female Diseases

स्तन की सूजन का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Mastitis ]

प्रसव के बाद (किसी भी समय) स्तन का दाह और उसके साथ ज्वर हो सकता है। उस समय प्रसूता के स्तनं की घंडी में या समूचे स्तन में दर्द और पीड़ा हो सकती है। इस कारण से बच्चे को वह अपना स्तन नहीं पिला सकती, क्योंकि इससे उसे असह्य पीड़ा का अनुभव होता…

स्तनों में रगड़ का लगने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Breast Contusion ]

कोनायम 30 — यदि स्तनों में रगड़ लग जाने के कारण वह जगह कठोर हो जाएं, तब यह औषधि अत्यंत उपयोगी सिद्ध होती है और स्तनों की कठोरता कोमलता में बदल जाती है। बैल्लिस पेरेन्निस (मूल-अर्क) — यदि स्तन रगड़ लगने के कारण पीड़ित हो गए हों, तब यह औषधि…

दूध छुड़ाने पर स्तनों में दूध का भरने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Breast…

ब्रायोनिया 30 — बच्चे का दूध छुड़ाने पर स्तनों में दूध के अधिक भर जाने में लाभकारी है। अर्टिका यूरेन्स (मूल-अर्क) — दूध छुड़ाने पर स्तनों में दूध सुखाने के लिए उपयोगी है। कैल्केरिया कार्ब 30 — बच्चे का दूध छुड़ाने पर स्तनों में दूध न भर…

दूध का दूषित होने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Defective Quality Milk ]

एकोनाइट 30 — प्रसव के बाद यह औषधि मिल्क-फीवर में लाभप्रद है। यह रोग प्रसूता के अपने ही दूध से एक प्रकार का विषाक्त होना है। मर्क सोल 6 — यदि दूध बहुत पतला हो और बच्चे के लिए पोषण-युक्त न हो, तब यह दें। सल्फर 200 — यदि दूध का स्वाद अच्छा न…

दूध का दोषपूर्ण स्राव का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Defective Flow Milk ]

चायना 30 — यदि दूध अपने आप निकलता रहे, जिससे माता के कपड़े तक भीगते रहें, उसे सदा सर्दी सताती रहे, तब यह औषधि उपयोगी है। रस-टॉक्स 30, 200 — जब दूध की ग्रंथियों से दूध को अपने आप अधिक स्राव होने के कारण स्तन दूध से भर कर थैली की तरह फूल…

दूध की मात्रा का बढ़ने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Excessive Flow Milk ]

रस-टॉक्स 3 — स्तनों में दूध की अधिकता से उनके भर जाने, फैल जाने में बहुत उपयोगी है। पल्सेटिला 30 — जो स्त्रियां अपने बच्चे को दूध नहीं पिलातीं, उनके स्तन दूध की अधिकता से भर जाएं या जब बच्चे का दूध छुड़ा दिया जाता है, तब स्तन दूध से फूल…

स्त्री के स्तनों में दूध का कम हो जाने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Agalactia ]

ऐग्नस कैस्टस 3x — प्रसवोपरांत बीस घंटे के भीतर स्तन में दूध न हो, तो यह औषधि दें। ऐसाफिटिडा 3 — एकाएक दूध घट जाए या एकदम बंद हो जाए, तो यह औषधि उपयोगी है। कैमोमिला 6 — मानसिक उत्तेजना के कारण से एकाएक दूध सूख जाता है अथवा क्रोध की वजह से…

प्रसव के बाद बालों का झड़ने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Postpartum Hair Loss ]

प्रसव के बाद बहुत-सी स्त्रियों के कमजोरी आदि कारणों से केश (बाल) झड़ने लगते हैं या झड़ जाते हैं; स्त्रियों के लिए यह भी चिंता का एक विषय हो सकता है। यदि होम्योपैथिक औषधियों से सही उपचार किया जाए, तो इस समस्या से मुक्ति मिल सकती है। सिपिया…

सूतिकोन्माद (गर्भवती स्त्री को पागलपन के दौरे पड़ना) का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For…

बुद्धि का भ्रम, निरर्थक बकना, घर के लोगों को मारने-काटने दौड़ना आदि इस रोग के प्रधान लक्षण हैं। प्रसव के बाद या पहले बल-क्षय आदि कारणों से ऐसा पागलपन हो जाता है। हायोसायमस 3 — साधारण पागलपन या हंसने-खेलने के भाव वाले लक्षण में। स्टैमोनियम…

सूतिका ज्वर (गर्भवती स्त्री को आने वाला बुखार) का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Remedies For…

यह सौरी घर की प्रसूताओं का एक भयंकर रोग है। प्रसव के समय प्रसव-द्वार में चोटादि लगकर कोई जगह छिल जाने अथवा प्रसव के बाद फूल का कोई अंश न निकलकर भीतर ही रह जाने और गर्भाशय के भीतर ही सड़कर रक्त विषैला होकर अथवा रक्त बंद होकर यह रोग होता है।…

जरायु की स्थान-च्युति का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Displacement of the Uterus ]

प्रायः प्रसव के बाद जरायु-संबंधी दो प्रकार के कष्ट हो जाया करते हैं-(1) जरायु की स्थान-च्युति (जरायु का अपने स्थान से हट जाना), (2) जरायु का लटक कर योनि तक अथवा योनि से बाहर तक आ जाना। इसमें निम्न औषधियां लाभ करती हैं एलो 3 — प्रसव के बाद…

प्रसव बाद के दर्द का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Postpartum Pain ]

स्ट्रौन्टियम कार्ब 3 — यदि बच्चा सिजेरियन हुआ है, जिस कारण स्त्री कमजोर हो गई हो। सिजेरियन डिलिवरी के बाद दर्द आदि जो कष्ट होते हैं, उनमें यह अत्यंत उपयोगी औषधि है। पल्सेटिला 30 — प्रसव के बाद यदि दर्द बार-बार तो न हो, किंतु जब हो, तब देर…

प्रसव के बाद अधिक रक्तस्राव का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Postpartum Bleeding Or…

कैमोमिला 30 — यदि प्रसव के बाद अत्यधिक रक्तस्राव के साथ ऐसी तीव्र पीड़ा हो, जैसी प्रसव के समय होती है, तब यह औषधि उपयोगी है। बेलाडोना 30 — प्रसव के बाद रक्त का बहाव बढ़ जाए और जननांगों पर बोझ पड़ता महसूस हो, पीठ में तेज दर्द हो, चेहरा लाल…

प्रसव बाद अधिक स्राव बहे का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Treatment For Profuse Discharge After…

चायना 30 — यदि स्राव पनीला हो, रक्त-मिश्रित, रक्त के थक्के हों और नाभि-प्रदेश से नीचे की तरफ बोझ महसूस हो, तब यह औषधि उपयोगी है। बेलाडोना 6, 30 — यदि स्राव देर तक बना रहे, पतला और बदबूदार हो। क्रोकस 30 — यदि स्राव अधिक बहे, कई दिनों तक…

प्रसव के बाद मैला पानी न निकलने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Treatment For Suppressed Lochia ]

प्रसव के बाद तथा नारबेल निकल जाने के बाद आमतौर पर जरायु (गर्भाशय) से 10-12 दिन तक मैला पानी निकला करता है। पहले कुछ दिन इसमें रक्त होता है, उसके बाद पांचवें दिन यह पीला हो जाता है, फिर दुधैला-सफेद हो जाता है। साधारणतः यदि सब कुछ ठीक से चले…