Browsing Category

Heart diseases

हृदय शूल या दिल के दर्द का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Angina Pectoris, Chest Pain ]

हृदय को चारों ओर से लपेटकर उसका पोषण करने वाली धमनियां "कोरोनरी आर्टरीज" कहलाती हैं। इनमें रक्त के रुक जाने से हृदय पर दबाव पड़ता है और दर्द होता है और इतना तेज दर्द होता है कि मृत्यु सामने खड़ी दिखाई देने लगती है। शरीर का रंग राख की तरह…

हृदयान्तर्वेष्टन शोथ का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Endocarditis, Inflammation of…

हृदय के भीतरी आवरण को "एण्डोकार्डियम" और उसके प्रदाह को एण्डोकाइटिस" अर्थात "हृदयांतर्वेष्टन-शोथ" कहते हैं। पेरिकार्बाइटिस (हृदयावरक बाह्य झिल्ली-प्रदाह) की भांति यह रोग भी आप से आप उत्पन्न नहीं होता, अधिकांश स्थानों में यह वातरोग का ही एक…

हृदय स्पंदन का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Palpitation ]

इसे "कलेजा धड़कना" भी कहते हैं। हृदय की जो एक स्वाभाविक गति है और उसके द्वारा बाएं स्तन के नीचे जो एक प्रकार का स्वाभाविक "धुक-धुक" शब्द होता है, वह स्वस्थ अवस्था में हमें बिल्कुल ही अनुभव नहीं होता, किंतु जब वह स्वयं हमारे अनुभव में आने…

हृदयार्वेष्टन शोथ या हृदय के चारों ओर लिपटी झिल्ली की सूजन का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic…

हृदय के ऊपरी अंश में जो एक आवरण है, उसको "पेरिकार्डियम" और हृदय के भीतरी भाग में जो आवरण है, उसको "एण्डोकार्डियम" कहते हैं। यदि किसी कारण से पेरिकार्डियम में प्रदाह हो जाता है, तो उसको "पेरिकार्डइटिस" कहते हैं। यह रोग अपने आप ही नहीं हो…

हृदय प्रसारण या हृदय वृद्धि का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Dilatation and…

इस रोग के मुख्य दो कारण हैं-(1) हृदय (हत्पिण्ड) के एक प्रकोष्ठ (चेम्बर) में जाने के मार्ग में जो वाल्व (कपाट) है, यदि किसी रोग के कारण इसका मुंह संकरा हो जाए, तो उस प्रकोष्ट का सब रक्त बाहर नहीं निकल जाता, कुछ अंश भीतर रह जाता है, इससे…