Browsing Category

Yoga

Svadhishthana Chakra Method and Benefits In Hindi

स्वाधिष्ठान चक्र यह द्वितीय चक्र मूलाधार से लगभग दो अंगुल ऊपर एवं नाभि के कुछ नीचे स्थित है। इसमें पद्म छः दल युक्त सिंदूरी रंग का है। दलों पर मंत्र - वं, भं, मं, यं, रं और लं लिखे हुए हैं। उसके बीच में अर्द्ध चंद्र है। यह क्षेत्र श्वेत…

Muladhara Chakra Method and Benefits In Hindi

मूलाधार चक्र इसका मूल स्थान गुदा-द्वार से दो अंगुल ऊपर और लिंग-स्थान से दो अंगुल नीचे - चार अंगुल विस्तार का मूलाधार चक्र पेरिनियम में अवस्थित है। कई शास्त्रों में इस स्थान को कंद कहा है जहाँ कुण्डलिनी सर्पिणी की तरह साढ़े तीन आंटे (लपेटे)…

Virabhadrasana, Eka Padasana Method and Benefits In Hindi

वीरभद्रासन/एक पादासन विधि खड़े हो जाएँ। दोनों हाथों को कान से स्पर्श कराते हुए सिर के ऊपर ले जाएँ एवं अंगुलियों को आपस में फंसा लें। अब चूंकि एक पैर पर सन्तुलन स्थापित करना है, अतः एक पैर (दाहिना) पर पूरा ध्यान केन्द्रित कर कमर से ऊपर के…

Padahastasana Method and Benefits In Hindi

पादहस्तासन शाब्दिक अर्थ: पाद का अर्थ पैर और हस्त का अर्थ हाथ होता है। अपने ही हाथों के ऊपर पैर रखकर खड़े होना। विधि ताड़ासन की स्थिति में खड़े हों। पैरों के पंजों के बीच की दूरी आधा फ़ीट से एक फ़ीट तक रखें। श्वास छोड़ते हुए धीरे-धीरे आगे की…

Kala Bhairavasana Method and Benefits In Hindi

काल भैरवासन शाब्दिक अर्थ: काल का मतलब विनाश या समय। भैरव का अर्थ भयानक या उग्र। यह भगवान शिव के आठ रूपों में से एक है। विशेष: इसकी कई विधियाँ हैं। जैसा कि नाम से इंगित है, यह आसन कालभैरव जी का है। भारत में कालभैरव जी की तरह-तरह की मुद्राओं…

Uttanasana Method and Benefits In Hindi

उत्तानासन प्रथम विधि शाब्दिक अर्थ: उत् एक संस्कृत उपसर्ग है, जो शब्दों में लगकर अर्थ देता है। तान का अर्थ फैलना, फैलाया हुआ, तानना या बढ़ाना। इस आसन में मेरुदण्ड को बलपूर्वक ताना जाता है। प्रसन्न मुद्रा में अपने आसन में सीधे खड़े हो जाएँ।…

Utthita Hasta Padangusthasana Method and Benefits In Hindi

उत्थित हस्त पादांगुष्ठासन विधि समावस्था में खड़े हो जाएँ अर्थात् दोनों पंजो को एक साथ मिलाकर खड़े हो जाएँ। दृष्टि सामने रखें। अब दाहिने घुटने को मोड़कर दाहिने हाथ से दाहिने पैर के अंगूठे को पकड़े। इस प्रकार अंगूठे को पकड़े कि दाहिना हाथ…

Dhruvasana, Bhagirathasana Method and Benefits In Hindi

ध्रुव आसन/भागीरथ आसन शब्दार्थ: भक्त ध्रुव एवं भागीरथ ऋषि ने इसी आसन से साधना की थी। संभवतः तब से इस आसन का नाम ध्रुव आसन या भागीरथ आसन पड़ा। इसे दो प्रकार से किया जा सकता है। प्रथम विधि समावस्था में खड़े हो जाएँ। इसके बाद दाहिने पैर को…

Vriksasana, Ekpad Namaskarasana, Urdhva Vrikshasana Ekpad Viraam Aasan Method and Benefits In Hindi

वृक्षासन/एकपाद नमस्कारासन/ऊर्ध्वहस्तस्थित एकपाद विराम आसन आकृति: वृक्ष के समान आकृति होने के कारण इसे वृक्षासन कहा गया है। विधि सर्वप्रथम समावस्था में खड़े हों। फिर शरीर को संतुलित रखते हुए दाहिने पैर को घुटने से मोड़े और पैर के पंजे को…

Garudasana Method and Benefits In Hindi

गरुड़ासन शाब्दिक अर्थ: गरुड़ - पक्षियों का राजा, भगवान विष्णु का वाहन है। विधि ताड़ासन में खड़े हो जाएँ। दाहिना पैर उठाएँ और बाएँ पैर पर इस प्रकार लपेटें कि दाहिनी जाँघ का पिछला हिस्सा बाईं जाँघ पर और दाहिना पैर बाईं पिंडली को स्पर्श करे।…

Sankatasana Method and Benefits In Hindi

संकटासन/सकटासन शाब्दिक अर्थ: संकट यानी विपत्ति/कष्ट एवं सकट यानी शाखोट नामक पेड़। विधि ताड़ासन में खड़े हो जाएँ। अब बाएँ पैर को दाहिने पैर पर लपेटें और हाथों को भी ऊपर की तरफ़ ले जाकर बाएँ हाथ को दाहिने हाथ पर लपेटें (कहीं-कहीं योग शिक्षक…

Gatime Dolasan Method and Benefits In Hindi

गतिमय दोलासन विधि त्रिलोकासन की अवस्था खड़े हो जाएँ अर्थात् दोनों पैरों के बीच में लगभग 3 फिट का अंतर बनाकर खड़े हो जाएँ। अब दोनों हाथों को कानों से स्पर्श कराते हुए ऊपर की तरफ़ तान दें एवं हाथों की अंगुलियाँ आपस में मिला लें या खुली रखें,…

Gatime Samakonasana Method and Benefits In Hindi

गतिमय सम कोणासन विधि समावस्था में खड़े हो जाएँ। दोनों हाथों को कानों से स्पर्श कराते हुए ऊपर की तरफ़ नमस्कार की मुद्रा में तान दें। पीठ को थोड़ा-सा धनुषाकार बनाते हुए नितम्बों को थोड़ा-सा पीछे ले जाएँ अब समकोण की स्थिति बनाने के लिए सिर,…

Tiryaka Tadasana, Urdhva Hastottanasana Method and Benefits In Hindi

तिर्यक् ताड़ासन/ऊर्ध्व हस्तोत्तानासन शाब्दिक अर्थ: तिर्यक् का मतलब ढालुआ, तिरछापन या आड़ापन। ताड़ एक वृक्ष है जो काफ़ी लंबाई लिए हुए होता है। विधि ताड़ासन में खड़े हो जाएँ। अब आपको एड़ी को उठाते हुए पंजों के बल खड़े होना है एवं कमर से ऊपर…

Tadasana Method and Benefits In Hindi

ताड़ासन विधि पैरों को एक साथ मिलाकर सावधान (समावस्था) की स्थिति में खड़े हों परंतु अँगूठे और एड़ियाँ समानांतर ही रखें। अब पंजों पर ज़ोर देते हुए धीरे-धीरे ऊपर उठे एवं दोनों हाथों को मिलाकर ऊपर की तरफ़ तान दें। इस अवस्था में घुटने एवं…