आँख आने (कंजक्टिवाइटिस)Conjunctivitis Treatment

0 692

आँख आने (कंजक्टिवाइटिस)
आँख आने (कंजक्टिवाइटिस) इस रोग को “Eye Flu” भी कहते हैं। यह हमारे आँख को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाती हैं। आँख आने से आँख में इतनी पीड़ा होती हैं, कि लोग बेचैन हो जाते हैं। यह संक्रामक रोग जो जीवाणु से फैलते हैं घर में किसी एक लोग को हो जाने से दूसरे को भी हो जाते हैं। इस बीमारी का फैलने का कारण रोगी द्वारा उपयोग होने वाला रुमाल, तौलिये और दूसरी वस्तु हैं, इसी से जीवाणु फैल जाते हैं , जिससे पुरे परिवार को इसका शिकार होना पड़ता हैं। अगर आपको इस रोग के फैलने से बचना हैं तो सबसे पहले आप अपनी आँख में एक काला चश्मा पहन लिजिए। आँख को बार-बार छुईए मत , बार-बार रगड़िये मत। आप अपने हाथ को बार -बार धोइए , अपने आँख को कॉटन से साफ कीजिये। कॉटन को गर्म पानी में उबाल लीजिये और फिर ठंडा होने बाद अपने आँख को साफ़ कीजिये। इसमें शुरू के कुछ दिन रोगी को अधिक पीड़ा से गुजरना पड़ता हैं। यह इन्फेक्शन से होने वाली बीमारी हैं।
आँख आने (कंजक्टिवाइटिस) के कारण
१) आँख में कचरा, किसी मच्छर, कीट पतंगे या कोई रासायनिक पदार्थ जाने से हमें ये बीमारी सकती हैं।
२) आँख में एलर्जी होने के कारण जैसे साबुन, शैम्पू, परफ्यूम से भी कंजक्टिवाइटिस हो जाते हैं।
३) धूल , धुंआ से इन्फेक्शन हो जाना।
४) गंदे पानी से नहाने पर भी कंजक्टिवाइटिस की बीमारी होती हैं | खासतौर पर तालाब,समुंद्र, नदी आदि में नहाने से |
आँख आने (कंजक्टिवाइटिस) के लक्षण
१) आँख लाल हो जाती हैं।
२) आँख में दर्द होना।
३) आँख में जलन होना।
४) आँख में खुजलाहट होना।
५) रोगी को तीव्र अवस्था में खून भी आ सकती हैं।
६) आँख में सूजन हो जाना।
७) पलकों का सूज जाना।
८) आँख से पानी निकलना।
९) आँख से मवाद निकलना।
११) आँख से धुंधला दिखाई देना।
आँख आने (कंजक्टिवाइटिस) के उपचार
जितनी भी दवा यहाँ बताई गयी हैं, वो सिर्फ खाने हैं, आँख में डालना नहीं हैं।
१) Belladonna 30 – इसमें आपकी आँख लाल और सूजी हुई रहेगी। आँख में दर्द रहेगा। चार-चार बूंद करके दो-दो घंटे पे लेना हैं।
२) Euphrasia 30 – इसमें आँख से पानी निकलती हैं और जलन होता हैं। चार-चार बूंद करके तीन-तीन घंटे पे लेना हैं।
३) Borax 30 – इसमें जब आप सो के उठते है तो आँख चिपक जाती हैं। चार-चार बूंद करके तीन-तीन घंटे पे लेना हैं।
४) Calcarea Carb 30 – इसमें आपकी आँख केवल रात में चिपक जाती हैं, और दिन में ठीक रहती हैं चार-चार बूंद करके तीन-तीन घंटे पे लेना हैं।
५) Hepar Sulp 30 – यदि आपकी ये बीमारी पुरानी हो चुकी हैं तो आप इस दवा का उपयोग कर सकते हैं। चार-चार बूंद करके तीन-तीन घंटे पे लेना हैं।
६) Cuprum Sulph 30 – इसमें आँख में दाने निकलते हैं। चार-चार बूंद करके तीन-तीन घंटे पे लेना हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.