संदेह या शंका या संशय या दुविधा का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Doubt ]

0 164

संदेहशीलता भी एक प्रकार का मानसिक विकार है। जो रोगी शंकालु होता है, वह सरलता से किसी पर विश्वास नहीं करता। घर का कोई व्यक्ति यदि कोई औषधि दे, तो वह उसे सेवन करने से मना कर देता है कि कहीं उसमें विष न हो। वह हर किसी को संदेह की दृष्टि से देखता है। उसे लगता है, सब उसके विरुद्ध षड्यंत्र रच रहे हैं। यह एक प्रकार का पागलपन ही होता है। ऐसे रोगी व्यक्ति पर हायोसाएमस 30 का प्रयोग करना चाहिए।

लैकेसिस 30 — यदि रोगी संदेहशील होने के साथ-साथ ईष्र्यालु भी हो, तब इसे दें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.