याददाश्त का कमजोर होने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Forgetfulness ]

0 244

भूल जाने को “भुलक्कड़पन” भी कहा जाता है। व्यक्ति अपनी कही बात को भूल लाता है, उसे कहां जाना है, यह भूल जाता है; वह अधिक सोच नहीं पाता है, बच्चों का-सा व्यवहार करता है, बात करने से शर्माता है, मानसिक थकावट के कारण स्मृति का ह्रास हो जाता है। कभी-कभी वह अपना नाम तक भूल जाता है।

लैक केनाइनम 3, 200 — मानसिक लक्षणों की दृष्टि-से व्यक्ति अनमना और भूल जाने वाला होता है। बाजार में खरीदारी करता है और पूरा झोला कहीं रखकर भूल जाता है। यह स्थिति कभी-कभी किसी के भी सामने आ सकती है, किंतु जब यह आदत बन जाए, तो इसे भूल जाना या भुलक्कड़पन ही कहा जाएगा। यह औषधि मन और ध्यान दोनों को केंद्रित करती है और व्यक्ति इस रोग से मुक्त हो जाता है।

बैराइटा कार्ब 30 — वृद्ध व्यक्ति भी बच्चों का-सा व्यवहार करता है। वह मन से दुर्बल होता है, उसे कुछ याद नहीं रहता, भूल जाने का रोग होता है। मानसिकशक्तियों का ह्रास हो, स्मृति का नाश और भुलक्कड़पन हो; जिनकी शारीरिक और मानसिक दृष्टि-से बढ़न नहीं हो पाती है। रोगी को टांसिल की शिकायत होती है। पेट फूला हुआ, हर समय थका हुआ-सा, हस्तमैथुन का आदि होता है। वह अपरिचित व्यक्तियों से आंख मिलाने में शर्माता है। उसे खुद पर भरोसा नहीं होता, उसे स्वप्नदोष हुआ करता है. स्मृति नहीं रहती, मानसिक-शक्ति लोप रहती है। यह औषधि बच्चों तथा वृद्धों की शारीरिक तथा मानसिक दोनों प्रकार की कमजोरी में उपयोगी है। इससे स्मरण-शक्ति की वृद्धि होती है।

Loading...

ऐनाकार्डियम 6, 200 — स्मृति-हास, मानसिक-थकावट आदि इसके लक्षण हैं। मानसिक-कार्य अधिक करने के कारण थकावट के परिणामस्वरूप भूल जाने का रोग होना। प्रातःकाल में इस रोग की अधिकता रहती है। कभी-कभी परीक्षा के समय बहुत पढ़ने से मानसिक-थकावट इतनी अधिक हो जाती है कि विद्यार्थी का मस्तिष्क ठस हो जाता है, उस समय यह औषधि उपयोगी सिद्ध होती है।

इथूजा 3, 30 — यह उन विद्यार्थियों के लिए उपयुक्त औषधि है, जिनका पढ़ने में मन केंद्रित नहीं होता, परीक्षा से भय लगता है और पढ़ा हुआ कुछ याद नहीं रहता।

थूजा 30, कैलि बाईक्रोम 3x — निद्रा से उठकर ही व्यक्ति सब कुछ भूल जाता है। पिछली रात की भी कोई बात याद नहीं रहती, फिर जैसे-जैसे समय व्यतीत होता जाता है, स्मृति लौटने लगती है और उसे कुछ याद हो आता है।

कैन्नेबिस इंडिका (मूल-अर्क) 2x — बच्चा या वृद्ध बोलते-बोलते भूल जाता है कि वह क्या कहने जा रहा था। वह भूल जाता है कि उसे कहां जाना है और क्यों जाना है। तब यह औषधि लाभ, करती है।

मैडौराइनम 200 — यदि व्यक्ति सब कुछ भूल जाए, अपना नाम तक उसे याद न रहे, तब इस औषधि से लाभ होता है। कुछ दिन औषध-सेवन से उसका यह रोग ठीक हो जाता है।

एसिड फॉस 1x — युवावस्था की ओर बढ़ने वाले जिन बच्चों की बढ़न एकदम होने लगती है और इस बढ़न के कारण जिन पर शारीरिक तथा मानसिक बोझ आ पड़ता है, उनके लिए यह उपयोगी औषधि है। कभी-कभी रोग, मानसिक-व्यथा, अति स्त्री-संग, वीर्य-क्षय आदि से युवक कमजोर हो जाता है, एक स्थान पर ध्यान केंद्रित नहीं होता. स्मृति-शक्ति निर्बल हो जाती है; व्यक्ति सोच नहीं सकता, हर बात भूल जाता है, जिस कारण उस पर निराशा व्याप्त हो जाती है। जो मानसिक दृष्टि से कमजोर हैं, उनके लिए यह बहुत उपयोगी है।

ग्लोनॉयन 6 — रोगी को भूल जाने का रोग हो जाता है। वह दूकान जाना भूल जाता है, घर भूल जाता है, गली-मुहल्ला भूल जाता है, गाड़ी का नंबर भूल जाता है, अपने आप को भूल जाता है। यह अवस्था सिर में अधिक रक्त-संचय के कारण होती है। इस औषधि से सब ठीक हो जाता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.