आहें भरने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Sighing ]

0 100

कभी-कभी रोने के बाद आहें भरी जाती हैं, किसी का गम में भी आहें भरना जारी रहता है, जबकि बहुत-सी स्त्रियां गर्भधारण और मासिक-धर्म के समय में आहें भरा करती हैं; बहुतों को आहें भरने की आदत-सी हो जाती है।

इग्नेशिया 6, 30 — अधिक समय तक रो लेने के पश्चात आहें भरते जाना, सुबकते रहना, बार-बार आहें भरना आदि में यह औषधि बहुत अच्छा काम करती है। इसे प्रति 6 घंटे लेना चाहिए।

कैल्केरिया फॉस 30, 200 — अपने आप ही अनजाने आहें भरते रहना। आहे भरने की आदत का हो जाना। इसमें यह औषधि लाभ करती है।

Loading...

नैट्रम फॉस 3, 6 — गर्भधारण कर लेने के बाद अथवा मासिक-धर्म के दिनों में गहरा और लंबा श्वास लेने की आह होती है। स्त्री अकेली चाहे बंद कमरे में ही क्यों न हो, तब यह उपयोगी है।

बेल्लिस पेरेन्निस 6 — किसी बात से मानसिक आघात पहुंचने पर आहें भरना। शरीर गरम हो, तब एकाएक ठंड लग जाने से आहें भरने में इस औषधि का प्रयोग करने से लाभ होता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.