Pashinee Mudra Method and Benefits In Hindi

0 277

पाशिनी मुद्रा

कण्ठपृष्ठे क्षिपेत्पादौ पाशवद् दृढ़बन्धनम्।
सा एव पाशिनी मुद्रा शक्ति प्रबोधकारिणी॥
पाशिनी महती मुद्रा वय:पुष्टि विधायिनी।
साधनीया प्रयत्नेन साधकैः सिद्धिकांक्षिभिः॥
(घे.सं. 3/84-85)

विधि

Loading...

दोनों पैरों को उठाकर गले के पीछे से लाते हुए उन्हें आपस में पाश के समान दृढ़ता से बाँध लें। कुण्डलिनी को जगाने वाली यह पाशिनी मुद्रा है।
विशेष: योग्य शिक्षक की देख-रेख में करें।
ध्यान: विशुद्धि चक्र या मूलाधार चक्र।

लाभ

  • बलवर्द्धक है। शरीर पुष्ट होता है।
  • सिद्धि प्रदाता है। अष्ट सिद्धियाँ प्राप्त होती हैं।
  • मानसिक शांति एवं प्रसन्नता रहती है।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.