Yog Mudra Method and Benefits In Hindi

0 253

योग मुद्रा

विधि

पद्मासन में शांतचित्त होकर आँख बंद करके बैठे। प्रारंभिक अवस्था में दोनों हाथों को पीठ के पीछे ले जाएँ एवं दोनों पांवों के पंजों को दोनों हाथों की कलाई से पकड़े। श्वास छोड़ते हुए सिर को सामने ज़मीन पर धीरे-धीरे झुकाएँ। माथा ज़मीन से स्पर्श कराएँ। 10 से 15 सेकण्ड तक उसी स्थिति में रहते हुए श्वास-प्रश्वास करते रहें। श्वास लेते हुए मूल स्थिति में लौटें।
दिशा: आध्यात्मिक कारणों से पूर्व या उत्तर दिशा करें।
ध्यान: समस्त चक्रों को जागृत करने के लिए उपयुक्त। मूलाधार एवं आज्ञाचक्र पर विशेष।

Loading...

लाभ

  • पाचन-संस्थान को तीव्र करता है।
  • कोष्ठबद्धता दूर करता है।
  • आध्यात्मिकता में लाभ पहुँचाता है।
  • मेरुदण्ड को पूर्ण लाभ मिलता है।

टिप्पणी: पूर्ण आसन के लिए यथासंभव धीरे-धीरे प्रयास करें। यदि कठिनाई महसूस हो तो हाथों को पीठ पर रखकर आपस में बाँध लें।
नोट: अधिक जानकारी के लिए योग मुद्रासन भी देखें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.