जख्म से ज्वर का आने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Traumatic Fever ]

0 358

आर्सेनिक 30 — यदि जख्म (घाव) के कारण आया हुआ ज्वर टाइफॉयड जैसा रूप धारण कर लें, तब इस औषधि से लाभ हो जाता है। इसकी 30 शक्ति की मात्रा नित्य 3 बार दें।

चायना 30 — यदि चोट लगने से या घाव हो जाने पर ज्वर यक्ष्मा जैसा रूप धारण कर ले, तब यह औषधि उपयोगी सिद्ध होती है।

Loading...

एकोनाइट 30 — यदि चोट लगने या घाव हो जाने पर ज्वर चढ़ जाए और कई दिनों तक बना रहे अथवा पेशाब लाने के लिए कैथीटर लगाने पर ज्चर आ जाए, तब यह औषधि दें।

लैकेसिक 30 या आर्निका 30 — यदि जख्म में पस पड़ जाने के कारण ज्वर हो, तो इन दोनों औषधियों में से किसी भी एक औषधि का प्रयोग किया जा सकता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.